जिलाधिकारी ने जिला मलखान सिंह चिकित्सालय का किया औचक निरीक्षण,सुविधाओं का जाना हाल

रिपोर्टर आकाश कुमार

अलीगढ़ जनपद में आज शनिवार को जिलाधिकारी सेल्वा कुमारी जे. ने प्रत्येक जरूरतमंद को बेहतर चिकित्सा सुविधा सुनिश्चित कराये जाने के लिये द्वितीय अवकाश के बावजूद जिला मलखान सिंह चिकित्सालय का निरीक्षण किया।

डीएम ने चिकित्सालय पहुॅच ओपीडी चैक की। सभी चिकित्सक अपने-अपने कक्ष में मरीजों को परामर्श देते पाये गये। नेत्र परीक्षण कक्ष में ऑखों का इलाज कराने आये मरीजों से बात-चीत कर समस्या] परेशानी एवं प्रदत्त की जा रही सुविधाओं के बारे में जानकारी प्राप्त की। मरीजों ने बताया कि ऑख वाले डाक्टर के-पी- सिंह का व्यवहार वर्ताव बहुत अच्छा है। उनकी हर समस्या को अच्छे से सुनकर निराकरण करते हैं। महिला मरीज ने बताया कि वह दूसरी बार आयीं हैं डाक्टर साहब द्वारा दी गयी दवा से उनकी ऑख की समस्या में काफी राहत महसूस हो रही है। अल्ट्रासाउण्ड कक्ष का ताला बंद मिला जिसे मौके पर उपस्थित सीएमएस द्वारा खुलवाया गया। डीएम ने सख्त हिदायत दी कि भविष्य में समय से सभी कक्ष खोले जायें।

डीएम ने अपने निरीक्षण के दौरान सामान्य वार्ड में भर्ती मरीजों से भी बात करते हुये उनका हाल-चाल जाना। इमरजेंसी वार्ड का निरीक्षण करने के साथ ही चिकित्सालय में बने कोविड वार्ड एवं ब्लड बैंक का भी निरीक्षण कर सुविधाओं का जायजा लिया। उन्होंने चिकित्सालय में प्रदेश सरकार द्वारा संचालित की जा रहीं विभिन्न प्रकार की जनकल्याणकारी योजनाओं का व्यापक प्रचार-प्रसार कराये जाने के भी निर्देश दिये। डीएम ने सीएमएस को निर्देशित किया कि चिकित्सालय परिसर में समुचित साफ-सफाई सुनिश्चित किया जाये। मरीजों को बाहर की दवायें न लिखी जायें। चिकित्सालय आये मरीजों की समस्याओं को पूरी संवेदनशीलता के साथ सुन उचित निराकरण किया जाये। समय-समय पर दवाइयों की उपलब्धता के बारे में स्टॉक का मिलान होता रहे ताकि कम होने वाली दवाइयों की जानकारी रहे और उन्हें समय से मंगाया जा सके। एम्बुलेंस द्वारा चिकित्सालय आये मरीजों को तत्काल अटेंड किया जाये। कई बार समय से इलाज न मिलने के कारण भी दुर्घटनाऐं घटित हो जातीं हैं

डीएम ने अपने निरीक्षण के दौरान रेडियोलॉजी कक्ष, एक्सरे कक्ष, माइक्रोस्कोपिंग एरिया, रसीद काउंटर, सर्जिकल वार्ड, समान्य वार्ड, सहित विभिन्न कक्षों एवं वार्ड का निरीक्षण किया। डीएम ने निर्देशित किया चिकित्सालय में अनुपयोगी सामान न रखा जाये, यदि कोई सामान खराब है तो तत्काल मरम्मत कराई जाये, यदि अवधि पूर्ण कर चुका है तो व्यवस्थित ढंग से निस्तारित कराया जाये। जगह-जगह अनुपयोग सामान रखने से स्थान का आकर्षण कम होने के साथ ही गंदगी भी व्याप्त होती है। उन्होंने सभी पैरामैडिकल स्टाफ से मरीजों एवं तीमारदारों से मधुर एवं संयमित भाषाशैली का प्रयोग करने की कभी नसीहत दी। इस अवसर पर सीडीओ अंकित खण्डेलवाल] नगर मजिस्टेªट प्रदीप कुमार वर्मा] सीएमएस डॉ. ईश्वरी देवी बत्रा एवं अन्य अधिकारी उपस्थित रहे

Leave a comment

Your email address will not be published.