ठंडी चीजों से परहेज करें हमेशा गुनगुने पानी का ही सेवन करें,पेट के बल लेटने से ऑक्सीजन की कमी होगी दूर, संदीप कुमार

डी के सागर की रिपोर्ट 25/4/2021

अलीगढ़ महानगर में कोविड-19 वैश्विक महामारी जो कि वर्तमान में भयावह रूप लेती जा रही है। ऐसे में हम सभी को अपनी शारीरिक रोग प्रतिरोधक क्षमता को मजबूत करना एक रक्षात्मक उपाय साबित हो सकता है। परंतु कोविड-19 वायरस से ग्रसित व्यक्ति में प्रारंभिक लक्षण के तौर पर सर्दी, जुकाम, हल्के बुखार के साथ गले में खराश और सांस लेने में तकलीफ महसूस हो रही है। शारिरिक रोग प्रतिरोधक क्षमता शक्ति अच्छी हो तो सर्दी जुकाम के साथ-साथ कई बड़ी बीमारियों से भी व्यक्ति को शीघ्र निजात मिल जाती है। ऐसे में हम सभी को चाहिए कि संक्रमण से सुरक्षित रहने के लिए अपने अपने घरों में उपलब्ध सामग्री को नुस्खों के रूप में प्रयोग कर सकते हैं।

जानकारी देते हुए जिला सूचना अधिकारी श्री संदीप कुमार ने बताया कि आयुर्वेद-यूनानी तिब्बत के अनुसार हर घर में आसानी से पाई जाने वाली हल्दी को एंटीबैक्टीरियल माना गया है, तो कम से कम हल्दी मिला दूध का सेवन कर अपने शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में वृद्धि अवश्य कर सकते हैं। इसी प्रकार से हल्दी अदरक को हल्का भून कर मुंह में रखकर चबाने से गले की खराश को कम किया जा सकता है। हिंदू धर्म और आयुर्वेद में तुलसी को पूज्य और जीवनदायिनी माना जाता है। हम तुलसी को पानी में उबालकर या यूं ही उसकी पत्तियों को चबाकर गले की खराश मिटा सकते हैं। नीबू को नीम गर्म पानी मे डालकर दिन में 3 से 4 बार पीने से गले की खराश और संक्रमण से सुरक्षित रह से सकता है। हमारे प्राचीन सनातनी इतिहास में कई बड़ी बीमारियों के लिए काढ़ा अचूक रामबाण दवा मानी गई है। आयुर्वेद के अनुसार तुलसी, दालचीनी, कालीमिर्च, अदरक, लौंग, मुलैठी और मुनक्का का काढ़ा तैयार कर पीना सेहत के लिए काफी लाभदायक साबित हो सकता है। ऋषि-मुनियों, वैद्य, हकीमों द्वारा तदबीर के साथ बनाया गया काढ़ा बड़े से बड़े ज्वर में मददगार माना गया है। बच्चों व बड़ों सहित सभी उम्र के व्यक्ति चवनप्राश का दैनिक सेवन कर अपनी प्रतिरोधक क्षमता को

बढ़ा सकते हैं।ज्ञात रहे कि ठंडी चीजों से परहेज करना है,किंतु हमेशा गुनगुने पानी का ही सेवन करने है, पेट के बल लेटने से ऑक्सीजन की कमी हो सकती है दूर:समूचे प्रदेश में बढ़ते संक्रमण के बीच जहां संक्रमित व्यक्तियों की संख्या में निरंतर इजाफा हो रहा है, वहीं रोग प्रतिरोधक क्षमता, जागरूकता और समय से उचित इलाज मिल जाने से बड़ी संख्या में मरीज स्वस्थ भी हो रहे हैं। वर्तमान में फैले संक्रमण के दौर में व्यक्ति यदि संक्रमित हो रहा है तो उसे या परिवार वालों को घबराने की जरूरत नहीं है। घरेलू उपचार के साथ कंट्रोल रूम को सूचना अवश्य दें , ताकि समय से जांच और इलाज मुहैया हो सके।यदि किसी कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति को सांस लेने में तकलीफ महसूस हो रही है और ऑक्सीजन का स्तर 94 से घटकर नीचे आ रहा है तो ऐसे व्यक्ति को पेट के बल लेटकर एक तकिया को गर्दन के नीचे रखना चाहिए एवं एक तकिया को छाती के नीचे और दो तकिया पैर के टखने के नीचे रखते हुए 1 से 2 घंटे तक लेट सकते हैं या सो सकते हैं। कोविड-19 संक्रमित व्यक्ति को सोते समय एक ही पोजीशन में नहीं लेटना चाहिए। वह सुनिश्चित करें कि 1 से 2 घंटे के अंतराल पर लेटने की स्थिति में बदलाव अवश्य होता रहेगा।

Leave a comment

Your email address will not be published.