ALIGARH

बाल्मीकि जयंती के अवसर पर आयोजित की गयी संस्कृत प्रतियोगिता

बाल्मीकि जयंती के अवसर पर आयोजित की गयी संस्कृत प्रतियोगिता

डीडीओ ने नौरंगीलाल राजकीय इंटर कॉलेज में कार्यक्रम का किया शुभारम्भ

रिपोर्टर आकाश कुमार

अलीगढ़ 15 सितम्बर 22
जिला विकास अधिकारी भरत कुमार मिश्र द्वारा नौरंगीलाल राजकीय इंटर कॉलेज में महर्षि बाल्मीकि जयन्ती के अवसर पर राज्य शिक्षा संस्कृत संस्थान प्रयागराज द्वारा आयोजित संस्कृत प्रतियोगिता का शुभारम्भ जिला विद्यालय निरीक्षक सुभाष गौतम एवं प्रधानाचार्य रवेन्द्र पाल सिंह तौमर के साथ मॉ सरस्वती की प्रतिमा के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित एवं माल्यार्पण कर किया गया।

इधर मुख्य अतिथि डीडीओ श्री मिश्र ने कहा कि संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है, क्योंकि यह सबसे प्राचीन भाषा है, लगभग 5000 वर्ष पूर्व विश्व के सबसे प्राचीन ग्रन्थ वेदों की रचना हुई जिसकी भाषा संस्कृत है। उन्होंने बताया कि पाणिनि द्वारा लिखे गए व्याकरण का नाम “अष्टाध्यायी” है जिसमें आठ अध्याय और लगभग चार सहस्र सूत्र हैं। पाणिनि कि इसी अतुलनीय योगदान के कारण उन्हें “संस्कृत के पिता” के रूप में जानते हैं। संस्कृत भाषा देववाणी कहलाती है। यह न केवल भारत की ही महत्त्वपूर्ण भाषा है, अपितु विश्व की प्राचीनतम व श्रेष्ठतम भाषा है। कुछ समय पहले कुछ पाश्चात्य विद्वानों द्व्रारा मिश्र देश के साहित्य को प्राचीनतम माना जाता था परन्तु अब सभी विद्वान् एक मत से संस्कृत के प्रथम ग्रंथ ऋग्वेद को सबसे प्राचीन मानते है।
जिला विद्यालय निरीक्षक सुभाष गौतम ने प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि राज्य शिक्षा संस्कृत संस्थान द्वारा संस्कृत भाषा को जन-जन तक पहुॅचाने का प्रयास किया जा रहा है। आज सभी विद्यालयों के बच्चो ने संस्कृत गीत, संस्कृत भाषण, संस्कृत अंताक्षरी प्रतियोगिताओं में बढ-चढ़कर प्रतिभाग किया है,
कार्यक्रम के दौरान विद्यालय के प्रधानाचार्य रवेन्द्र पाल सिंह तौमर ने संस्कृत विषय के विद्यार्थी न होते हुए भी संस्कृत श्लोक सुनाकर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया

जनपद संयोजक श्रीमती पूजा शर्मा ने बताया कि संस्कृत प्रतियोगिता के अन्तर्गत विभिन्न विद्यालयों के लगभग 84 छात्र-छात्राओं द्वारा प्रतिभाग किया गया,
इस दौरान उन्होंने बताया कि संस्कृत गीत प्रतियोगिता में ठा मलखान सिंह इंटर कॉलेज के सूरज कुमार, भूमिका सैंगर ने क्रमशः प्रथम, द्वितीय एवं रतन प्रेम डीएवी इंटर कॉलेज की नन्दिनी शर्मा ने तृतीय स्थान प्राप्त किया,
जबकि राशि सैनी को सात्वना पुरस्कार प्रदान किया गया
इसी प्रकार भाषण प्रतियोगिता में सर्वदानन्द संस्कृत महाविद्यालय के सचिन कुमार, मोहित कुमार एवं विपिन कुमार ने क्रमशः प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त किया जबकि अंताक्षरी प्रतियोगिता में सर्वदानन्द संस्कृत महाविद्यालय के प्रभुप्रकाश प्रथम व रतन प्रेम डीएवी इंटर कॉलेज की रूबी व तान्या वार्ष्णेय द्वितीय व तृतीय स्थान पर रहीं।

निर्णायक मण्डल में वार्ष्णेय महाविद्यालय से अजीत कुमार जैन, टीकाराम महाविद्यालय से श्रीमती सुमन रघुवंशी, रतन प्रेम डीएवी बालिका इंटर कॉलेज से श्रीमती रेखा रानी, राजकीय कन्या इंटर कॉलेज से श्रीमती सुषमा रानी, श्री फूल संस्कृत महाविद्यालय जवां से राकेश कुमार, मैथिल ब्राह्मण माध्यमिक संस्कृत महाविद्यालय से भुवनेश्वर उपाध्याय रहे।

कार्यक्रम का संचालन करते हुए राजीव कुमार अग्रवाल एवं प्रभाशंकर शुक्ल ने कहा कि राज्य शिक्षा संस्कृत संस्थान प्रयागराज द्वारा संस्कृत भाषा को बढ़ावा देने के लिये सराहनीय कार्य किये जा रहे हैं। इस प्रकार की संस्कृत प्रतियोगिताओं से निश्चित रूप से छात्र-छात्राएं लाभान्वित होंगे और विजेता प्रतिभागियों को देखकर अन्य छात्र-छात्राएं भी इससे प्रोत्साहित होंगे, कार्यक्रम में विद्यालय के सुरेन्द्र सिंह, श्रीमती ममता बघेल, प्रशान्त माहेश्वरी समेत अन्य कार्मिकों का विशेष सहयोग रहा। अन्त प्रधानाचार्य द्वारा आगंतुकों का आभार व्यक्त करते हुए कार्यक्रम का समापन किया गया,

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker