ALIGARH

सासनी गेट गौशाला निरीक्षक की लापरवाही से घायल गाय ने प्राण त्यागे विश्व हिंदू महासंघ के मंडल अध्यक्ष गौरव भैया ने सीएम से अपील की है

सासनी गेट गौशाला में मृत पड़ी गाय

विश्व हिंदू संघ केमंडल अध्यक्ष गौरव भैय्या
22/06/2020

सासनीगेट क्षेत्र के गौशाला निरीक्षक की लापरावाही से गयी एक घायल गाय की जान विश्व हिंदू महासंघ के मंडल अध्यक्ष गौरव भैया ने कहा कि उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से विनती है कि वह गौशाला के निरीक्षकों को गौशाला सम्भालने के साथ साथ गायों के प्रति सम्मान भी सिखायें क्योंकि गौशाला निरीक्षक की गलती और लापरावाही के चलते आज एक घायल गाय ने दर्द से कराहते हुए और भूख और प्यास से अपने प्राण त्याग दिये मामला अलीगढ़ के सासनीगेट क्षेत्र की गौशाला में चार दिन से घायल पड़ी हुई गाय ने आखिरकार दम तोड़ ही दिया आपको बता दें कि इस गाय को चार दिन पहले घायल अवस्था में नगर निगम की गाड़ी द्वारा सासनीगेट गौशाला में छोड़ा गया था यहाँ आश्वासन दिया गया कि गाय का उचित इलाज करवाया जाएगा क्योंकि जिस समय गाय को यहां लाया गया था वह एक पैर से काफी घायल थी उसका पैर टूट गया था दरअसल इस गाय को एक गाड़ी वाला बहुत बेरहमी से टक्कर मार गया था वहां जिनके सामने ये घटना घटित हुई उन्होंने नगर निगम की गाड़ी को बुलबाकर घायल गाय को इस विश्वास के साथ इस गौशाला में छुड़वाया कि यहां गाय का इलाज हो सकेगा और गाय स्वस्थ हो जाएगी। जिस व्यक्ति ने बेसहारा गाय को गौशाला में छुड़वाया था वह गाय को देखने गौशाला गए वहाँ गाय की स्तिथि देखकर व्यथित हो गए क्योंकि गौशाला के निरीक्षक ने गाय के पैर का ऑपरेशन हुए जाने की बात कही थी पर वहाँ का नजारा मन को दुःखी कर देने वाला था गाय के घायल पैर से पस निकल रहा था और गाय भूख प्यास और पैर के दर्द से काफी बैचेन थी उसकी ऐसी स्तिथि देखकर उसके लिए कुछ खाने के लिए लाकर उस व्यक्ति ने खिलाना शुरू किया ही था कि गाय के लिए यमदूत बना निरीक्षक आकर लगा सुनाने यहां और भी गाय हैं उन्हें क्यों नहीं खिला रहे हो इसे ही क्यों खिला रहे हो ये तुम्हारी क्या निजी गाय है जिसे यहाँ छोड़कर गए हो उसने इस हद तक उस सेवा भाव करने गए व्यक्ति को सुना दिया कि वह व्यक्ति गाय की क्या किसी भी जीव की सहायता करने से भी ख़ौफ़ खायेगा।निरीक्षक ने उस व्यक्ति को सुनाकर गौशाला से जाने को मजबूर कर दिया गाय की स्तिथि को देखकर वह दुःखी मन से घर आ गया पर उसे गाय की चिंता सताने लगी आखिर क्या होगा गाय का कैसे इलाज होगा यही विचार करते हुए वह दूसरे दिन गौशाला गया तो वहाँ जाकर पता चला घायल गाय ने प्राण छोड़ दिये हैं। आज आंखों के सामने एक गाय ने अपने घायल पैर की पीड़ा से कराहते हुए प्राण छोड़ दिये हैं परन्तु न जाने ऐसी कितनी अनगिनत गायें व बेजुबान पशु हैं जो ऐसी हालत में प्राण त्याग चुके हैं जिन लोगों की वजह से गाय की हत्या हुई है ऐसे लोगों पर सख्त कार्यवाही होनी चाहिए

Show More

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button
Close
Close

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker